Dhokha Shayari In Hindi - Dhokha Shayari - धोखा शायरी

Dhokha Shayari In Hindi: नमस्कार दोस्तो कैसे है आप लोग उम्मीद करता हूं कि आप लोग अच्छे होंगे। हमेशा की तरह आज फिर हाजिर है एक नए पोस्ट के साथ जिसका टाइटल है dhokha shayari,dhokha shayari image,shayari on dhokha, धोखा शायरी।

आजकल प्यार के नाम पर धोखा देना सामान्य बात है। प्यार करना तो आसान होता है लेकिन उसको निभाना सबके बस की बात नहीं है। जब कभी प्यार में बेवफाई मिलती है तो दिल टूट जाता है और उस प्यार को भूलने मेे पूरी जिंदगी लग जाती है।


अगर आपको भी कभी प्यार में बेवफाई मिली है तो इस पोस्ट की pyar me dhokha shayari आपको थोड़ा सा राहत जरूर देगी। हम उम्मीद करते है कि Dhokha Shayari In Hindi आपको पसंद आयेगी और आप इसे अपने दोस्तो के साथ जरूर शेयर करेंगे।



सिर्फ लफ्जों से इकरार होता नहीं,

एक जानिब से ही प्यार होता नहीं,

मै तुम्हें याद रखने की खाऊ कसम ,

तुम मुझे न भूलने का वादा करो। 

Sirf lafzon se iqrar hota nahi,

Ek janib se hi pyaar hota nahi,

Main tumhein yaad rakhne ki khau kasam,

Tum mujhko na bhulane ka wada karo


Dhokha Shayari In Hindi


रूठने का हक है तुझे ,पर वजह बताया कर,

ख़फ़ा होना गलत नही ,तू खता बताया कर,

हमने सोचा था की बताएँगे सब दुःख दर्द तुमको,

पर तुमने तो इतना भी ना पूछा की खामोश क्यूँ हो। 

Ruthn ka haq hai tujhe par wajah bataya kar,

khafa hona galat nahi tu khata jataya kar,

Hamne socha tha ki bataenge sab dukh dard tumko,

par to tumne to itna bhi ns puchha ki khamosh kyun ho. 


नींद से क्या शिकवा जो आती नहीं रात  भर,

कसूर तो उस चेहरे का है जो सोने नहीं देता। 

Nind se kaisi sikwa jo aati nahi raat bhar,

Kasoor to us chehre ka hai jo sone nahi deta.


Dhokha Shayari Image - उठ जाया करते हैं


जागने की इजाजत नहीं देते तेरे ख्वाब मुझे,

वो तो हम चाय के बहाने उठ जाया करते हैं। 

Jagne ki ijajat nahi dete tere khwaab mujhe,

wo to ham chai ke bahane uth jaya karte hai. 


Dhokha Shayari In Hindi

जब मोहब्बत का इकरार करते हो,

धड़कनों मे नया रंग भरते हो तुम,

बार बार कर चुके हो मगर,

आज फिर मुझको अपना बनाने का वादा करो। 

Jab mohabbat ka iqrar karte ho Tum,

Dhadkano mein naya rang bharte ho tum,

Baar baar kar chuke ho magar, 

Aaj phir mujhko apna banane ka wada karo.


है तुम्हारी वफ़ाओं पे मुझको यकीन,

फिर भी दिल चाहता है मेरे दिल नसीन,

यूँ ही मेरी तसल्ली की खातिर,

जरा मुझको अपना बनाने का वादा करो। 

Hai tumhari wafaon pe mujhko yakeen,

Phir bhi dil chahta hai mere dil nasheen,

Yun hi meri tasalli ki khatir,

Zara mujhko apna banane ka wada karo.


Shayari On Dhokha - जब रिहाई का वक्त आया


अब इससे बढ़कर,

गुनाह-ए-आशिकी क्या होगी,

जब रिहाई का वक्त आया,

तो पिंजरे से मोहब्बत हो चुकी थी। 

Ab isse badhkar,

Gunnah-e-ashiqui kya hogi,

Jb rihai ka waqt aya,

To pinjare se mohabbat ho chuki thi.


Dhokha Shayari In Hindi

उसके सिवा किसी और को चाहना मेरे बस में नही है,

ये दिल उसका है अपना होता तो बात और होती। 

Uske siwa kisi aur ko chahna mere bas me nahi hai,

ye dil uska hai apna hota to baat aur hoti. 


हाँथ अगर थामों तो ज़िन्दगी भर साथ देना,

कुछ पल के साथी तो जनाज़े में भी मिल जाते हैं

Hath agar thsmo to jindagi bhar sath dena,

kuch pal ke sathi to janaje me bhi mil jate jaate hai. 


Dhokha Shayari In Hindi - मुस्कुरा  कर मनाने का वादा करो


चूम कर अरमान इन होंठों का तुम,

साँसों मे बसाने का वादा करो,

मै जो कभी रूठ जाऊँ तुम से तोह,

मुस्कुरा  कर मनाने का वादा करो। 

Chum Kar Aarmaan In Honthon Ka Tum,

Saanson Mein Basane Ka Wada Karo, 

Main Jo Kabhi Ruth Jao Tum Se To,

Muskura Kar Manane Ka Wada Karo.


Dhokha Shayari In Hindi

कोई वादा न कर कोई इरादा न कर,

ख्वाहिशों मे खुद को आधा न कर,

इस तकदीर से उम्मीद ज्यादा न कर। 

इस तकदीर से उम्मीद ज्यादा न कर। 

Koi wada na kar koi irada na kar,

Khwahishon me khud ko aadha na kar,

De degi utna jitna likh diya khuda ne,

Is taqdeer se ummeed jyada na kar.


हर पल के रिश्ते का वादा है तुम से,

अपनापन कुछ इतना ज्यादा है तुम से,

न सोचना की भूल जाएंगे तुम को,

जिन्दगी भर का सात है ये वादा है तुम से। 

Har Pal Ke Rishte Ka Wada Hai Tum Se,

Apnapan Kuchh Itna Jyaada Hai Tum Se,

Na Sochna Key Bhool Jaayenge Tum Ko,

Jindagi Bhar Ka Sath Hai Ye Wada Hai Tum Se.


Dhokha Hindi Shayari - उनके झूठे वादे भी सच्चे लगते है


असर है ये उनकी अदाओ का,

की वो हमे इतने प्यारे लगते है,

जब वो कहते है वादा है मेरा तो,

उनके झूठे वादे भी सच्चे लगते है। 

Asar Hai Yeh Unki Adao Ka,

Ki Vo Hume Itne Pyare Lagate Hai,

Jab Vo Kehte Hai Wada Hai Mera To,

Unke Jhoothe Wade Bhi Sachche Lagte Hai.


Dhokha Shayari In Hindi

जो वादा किया है वो निभाना होगा,

एक दिन लौट कर तुम्हें आना होगा,

दिल तोड़कर मुस्कुरा रहे हो आज,

देखना एक दिन तुम्हें भी पछताना होगा। 

Jo Wada Kiya Hai Wo Nibhana Hoga,

Ek Din Laut Kar Tumhe Aana Hoga,

Dil Todkar Muskura Rahe Ho Aaj,

Dekhna Ek Din Tumhe Bhi Pachtana Hoga.


मैं तुम्हे रेत के ज़र्रो से भी चुन सकता हूँ पगली,

जब कभी टूट के बिखरो तो बताना मुझको।

Mai tumhe ret ke jarron se bhi chun sakta hun pagli,

Jab kabhi toot ke bikhro to batana mujho.


Pyar Me Dhokha Shayari - मेरी याद आएगी


आईना देखोगे तो मेरी याद आएगी,

साथ गुज़री वो मुलाकात याद आएगी,

पल भर क लिए वक़्त ठहर जाएगा,

जब आपको मेरी कोई बात याद आएगी। 

Aaina dekhoge to meri yaad ayegi,

Sath gujari wo mulakaat yaad ayegi,

Pal Bhar ke liye waqt theher jayega,

Jab aapko meri koi baat yaad ayegi.


Dhokha Shayari In Hindi

मिलावट है तेरे हुस्न में इत्र और शराब की,

तभी मैं थोड़ा महका हूं थोड़ा सा बहका हुँ। 

Milawat hai tere husn me itra aur sharab ki,

Tabhi mai thoda mehka hun thoda sa behka hun.


वादा कर लेते है निभाना भूल जाते है,

लगाकर आग बुझाना भूल जाते है,

ये तो आदत हो गई उसकी,

रुलाती है और मनाना भूल जाती है। 

Wada Kar Lete Hai Nibhana Bhul Jate Hai,

Lagakar Aag Bujhana Bhul Jate Hai,

Ye To Aadat Ho Gayi Uski,

Rulati Hai Aur Manana Bhul Jati Hai.


Dhokha Shayari - तुम भी बिखर जाओगे


मैने मौहब्बत भरी यादों में तुम्हें इस तरह पिरोया है,

मै जो दिल से हार गया तो सनम तुम भी बिखर जाओगे। 

Maine mohabbat bhari yadon me tumhe is tarah piroya hai,

Mai jo dil se haar gaya to sanam tum bhi bikhar jaoge.


Dhokha Shayari In Hindi

क्यूं चलाती हो तीर नैनों की कमान से,

दिल तो घायल है तेरे चेहरे की मुस्कान से। 

Kyun chalati ho teer naino ki kamman se,

Dil to ghayal hai tere chehre ki mushkaan se.


ये सागर जैसा दिल ना जाने ,

कितने अरमान लिए फिरता है, 

कभी होता है शान्त शान्त ,

तो कभी तूफ़ान लिए फिरता है। 

Ye sagar jaisa dil na jaane,

Kitne armann liye firta hai,

kabhi hota hai shant shant,

To kabhi tufan liye firta hai.


धोखा शायरी - मेरी नज़रों में हसीन वो है


मुझको मालूम नहीं हुस़्न की तारीफ,

मेरी नज़रों में हसीन वो है, 

जो तुम जैसा हो। 

Mujhko malum nahi husn ki taarif,

Meri najron me hasin wo hai,

Jo tum jaisa hai.


Dhokha Shayari In Hindi

एक वादा था तेरे हर वादे के पीछे,

तू मिलेगा मुझे हर गली हर दरवाजा के पीछे,

पर तू तो बेवफा निकला,

एक तू ही नहीं था मेरे जनाजे के पीछे। 

Ek wada tha tere har wade ke peeche,

Tu milega mujse har gali har darwaza ke peeche,

Par tu to bewafa nikla,

Ek tu hi nahi tha mere Janaze ke peeche.


लिखी कुछ शायरी ऐसी तेरे नाम कि,

जिसने तुम्हे देखा भी नही,

उसने भी तेरी तारीफ कर दी। 

Likhi kich shayari aisi tere naam ki,

Jisne tumhe dekha bhi nahi,

Usne bhi teri taarif kar di.


Dhokha Shayari Image - मुहब्बत का सिला देते हो


बना कर छोड़ दिया है तुमने अपनी यादों का आदी,

क्या तुम दीवाने लोग इस तरह ही मुहब्बत का सिला देते हो। 

Bana kar chhod diya hai tumne apni yadon kaa aadi,

Kya tum diwane log is tarah hi mohabbat ka sila dete ho. 


Dhokha Shayari In Hindi

तु खामोश क्यू है ये तो मालुम नही मगर,

दिल डूब सा जाता है जब तु खामोश होता है। 

Tu khamosh kyun hai ye to malum nahi magar,

Dil doob sa jata hai jab tu khamosh hota hai. 


न मै तुमको खोना चाहता हूँ,

न तेरी याद में रोना चाहता हूँ,

जब तक जिन्दगी है मै हमेशा तुम्हारे साथ रहूँगा,

बस ये ही वादा तुमसे करना चाहता हुँ। 

Na Mein Tumhe Khona Chahta Hoon,

Na Teri Yaad Mein Rona Chahta Hoon,

Jab Tak Zindagi Hai Mein Hamesha Tumhare Sath Rahunga,

Bas Yahi Wada Tumse Karna Chahta Hoon.


Dhokha Shayari In Hindi - तू भी बेकरार है


बिना वादा भी तेरा इंतज़ार है,

जुदा होके भी तुमसे प्यार है,

गवाही देती है तेरे चेहरे की उदासी,

मिलने को मुझसे तू भी बेकरार है। 

Bina wada bhi tera Intezar hai,

Juda hoke bhi tumse pyaar hai,

Gawaahi deti hai tere Chehre ki udasi,

Milne ko mujhse tu bhi bekrar hai


Dhokha Shayari In Hindi

रूप जब सरोवर में नहाता है,

तो चांद पानी में उतर आता है,

खुद तो चला जाता है शितल हो कर,

आग पानी में लगा जाता है। 

Roop jab sarovar me nahata hai,

To chaand paani me utar aata hai,

Khud to chala jata hai shital ho kar,

Aag pani me laga jaata hai. 


पूछते थे ना कितना प्यार है हमें तुम से,

लो अब गिन लो ये बूंदे बारिश की। 

Puchhate the na kitna pyar hai hamein tum se,

Lo ab gin lo ye baarish ki bunde. 


Pyar Me Dhokha Shayari - मेहँदी की तरह होती है


मोहब्बत भी हाथों में लगी मेहँदी की तरह होती है,

कितनी भी गहरी क्यों ना हो फीकी पड़ ही जाती है।

Mohabbat bhi hathon me lagi mehandi ki tarah hoti hai,

Kitni bhi gehri kyo na ho phiki pad hi jaati hai. 


Dhokha Shayari In Hindi

मत करो तुम वो वादा जिसे निभा न सको,

मत चाहो उससे जिससे तुम पा न सको,

प्यार हर किसी का कहा पूरा होता है,

प्यार का पहला अक्षर ही अधूरा होता है। 

Mat karo tum wo wada jise nibha na sako,

Mat chaho use jise tum pa na sako,

Pyar har kisi ka kaha pura hota hai,

Pyar ka pahla akshar hi adhura hota hai.


वादा न करो अगर तुम निभा न सको,

चाहो न उसको जिसे तुम पा न सको,

दोस्त तो दुनिया मे बहुत होते है,

पर एक खास रखो जिसके बिना तुम मुस्कुरा न सको। 

Wada Na Karo Agar Tum Nibha Na Sako,

Chaho Na Usko Jise Tum Pa Na Sako,

Dost To Duniya Me Bahot Hote Hai,

Par Ek Khas Rakho Jiske Bina Tum Muskura Na Sako