Chand Shayari - चांद शायरी - Shayari On Chand

Chand Shayari: नमस्कार दोस्तो, हमेशा की तरह आज फिर से हाजिर है एक नए पोस्ट के साथ जिसका title चांद शायरी है। दोस्तों अक्सर हम जिसको हद से ज्यादा प्यार करते है या फिर कोई हमे बेहद खूबसूरत लगता है तो हम उसकी तुलना चांद से करते है कि उसका चेहरा बिल्कुल चांद सा है। चांद सुंदरता का प्रतीक है। बहुत से ऐसे शायर है जिन्होंने चांद को लेके शायरी बनाई है। अगर आप भी किसी से प्यार करते है और उसकी तारीफ करना चाहते है तो Chand Shayari In Hindi आपके लिए बेहद आकर्षक होगा।

हम उम्मीद करते है कि इस पोस्ट की Chand Shayari आपको अच्छी लगेगी और इसे आप अपने दोस्तो के साथ शेयर करेंगे।


मोहब्बत थी तो चांद अच्छा था,

उतर गई तो दाग़ दिखने लगे।

Mohabbat thi to chand acha tha,

Utar gayi to daag dikhne laga


Chand Shayari - चांद शायरी

मैं तुम्हे चांद कह दूं, ये तो मुमकिन है,

मगर लोग तुम्हें रात भर देखें ये मुझे गवारा नहीं।

Mai tumhe chand kah du ye to mumkin hai,

Magar log tumhe raat bhar dekhe ye mujhe gawara nahi


चांद का हुस्न भी जमीन से है,

चांद पर चांदनी नहीं होती।

Chand ka husn bhi jamin se hai,

Chand par chandani nahi hoti.


Chand Shayari In Hindi


ये दिल न जाने क्या कर बैठा,

मुझसे बिना पूछे ही फैसला कर बैठा।

Ye dil na jane kya kr baitha,

Mujhse bina puchhe hi faisala kar baitha.


Chand Shayari - चांद शायरी

खुद हो कर नाजुक सा, 

आप जैसे चाँद से प्यार कर बैठा।

Khud ho kar najuk sa,

Aap jaise chand se pyar kar baitha.


ऐसा लगता है कुछ होने जा रहा है,

कोई मीठे सपनों में खोने जा रहा है,

धीमी कर दे तेरी रौशनी ऐ चाँद,

मेरा कोई अपना सोने जा रहा है।

Aisa lagta hai kuch hone ja raha hai,

Koi mithe sapno me khone ka raha hai,

Dhimi kar de teri roshani e chand,

Mera koi apna sone ja raha hai.


Chand Par Shayari


ऐ चाँद चला जा क्यूँ आया है तू मेरी चौखट पर,

छोड़ गया वो शख्स जिस के धोखे मे तुझे देखते थे । 

Ae chand jabkyun aya hai meri chaukhat par,

Chhod gaya wo shaksh jis ke dhokhe me tujhe dekhte the.


Chand Shayari - चांद शायरी

ऐ करवा चौथ चाँद उस सुहागन की भी दुआ करना मंजूर,

सीमा पर तैनात है जिसकी मांग का सिंदूर।

Ae karwa chauth chand us suhagan ki bhi dua karna manjur,

Sima par rakha tainat jiski maang ka sindoor.


ऐ-चांद खबरदार जो आज  निकलने में देरी की,

ज्यादा भूखे रहने की आदत नहीं है मेरी जान को।

Ae chand khabardaar jonaaj nikalne me deri ki,

Jyada bhukhe rehne ki adat nahi hai meri jaan ko.


Shayari On Chand


आरज़ू बचपन से थी चाँद देखने की,

और फिर यूँ हुआ कि हम आप  से टकरा गये।

Arzoo bachpan se thi chand dekhne ki,

Aur phir yun hua ki hum aap se takra gaye.


Chand Shayari - चांद शायरी

एक अदा आपकी दिल चुराने की,

एक अदा आपकी दिल मे बस जाने की,

एक चेहरा आपका चाँद जैसा,

ओर एक ज़िद हमारी चाँद पाने की।

Ek ada apki dil churane ki,

Ek ada apki dil me bas jane ki,

Ek chehra apka chand jaisa,

Aur ek zid hamari chand pane ki.


ना चाँद अपना था ना तू अपना था,

काश, दिल भी मान लेता की सब सपना था।

Na chand apna tha na tu apna tha,

Kash dil bhi maan leta ki sab apna tha.


Chand Shayari


खुले आसमान में वो चमकता हुआ चांद,

ओर दिल मे जगा हुआ प्यार,

कभी कम तो कभी ज्यादा होता रहता है।

Khule asmaan me wo chamakta hua chaand,

Aur dil me jaga hua pyar,

Kabhi kam to kabhi jyada hota rehta hai.


Chand Shayari - चांद शायरी

चाँद के बिना अँधेरी रात रह जाती है,

साथ कुछ हसीन मुलाकात रह जाती है,

सच है जिंदगी कभी रूकती नहीं,

बस वक्त निकल जाता है और याद रह जाती है।

Chand ke bina andheri raat reh jati hai,

Sath kuch hasin mulakat reh jati hai,

Sach hai jindagi kabhi rukati nahi,

Bas waqt nikal jata jata hai aur yaad reh jati hai.


नकाम सी कोशिश किया करते हैं,

हम हैं कि उनसे प्यार किया करते हैं,

खुदा ने तकदीर में एक टूटा तारा नहीं लिखा,

और हम हैं कि चांद पाने के लिए मरा करते हैं।

Nakaam si kosis kiya karte hai,

Hum hai ki unse pyar kiya karte hai,

Khuda ne takdeer me ek toota tara nahi likha,

Aur hum hai ki chand pane ke liye mara karte hai.


 चांद शायरी


चाँद भी छुप जाता है उसके मुस्कुराने से,

दिन भी ढल जाता है उसके उदास हो जाने से,

क्यों वो नही समझ पाते हैं हाल-ए-दिल मेरा,

मेरी धड़कन रुक जाती है उसके रूठ जाने से।

Chand bhi kabhi chhup jata hai uske mushkurane se,

Din bhi dhal jata hai uske udas ho jane se,

Kyo wo nahi samjh pate hai haal-e-dil mera,

Meri dhadkan ruk jati hai uske ruth jane se.


Chand Shayari - चांद शायरी

रास्ते मे खड़ी हर लड़की को घूरने वालो,

भगवान तुम्हे चाँद सी बेटी दे।

Rashte me khadi har ladki ko ghutne wali,

Bhagwan tumhe chand si beti de.


सुनो, चांद मानते थे ना उसे,

अब दुरी तो सहनी ही पड़ेगी।

Suno chand mante the na use,

Ab duri to sahni Sahni hi padegi.


Chand Shayari In Hindi


वो चांद सी नूरानी में सितारों सा अलबेला,

एक दूजे के बिन पूरा आसमां हैं अकेला।

Wo chand si nurani mai sitaro sa akela,

Ek dooje ke bin pura asman hai akela.


Chand Shayari - चांद शायरी

हाए वो लोग गए चाँद से मिलने और फिर,

अपने ही टूटे हुए ख़्वाब उठा कर ले आए।

Hai wo log gaye chand chand se milne aur fir,

Apne hi toote hue khwab utha kar le aye.


चांद भी हैरान दरिया भी परेशानी में है,

अक्स किसका है कि इतनी रौशनी पानी में है।

Chand bhi hairan dariya bhi paresani me hai,

Aks kiska hai ki itni raushani pani me hai.


Chand Par Shayari


नहीं कर सकता है कोई वैज्ञानिक मेरी बराबरी,

मै चांद देखने सायकल से जाया करता था।

Nahi kar sakta koi scientist meri barabari,

Mai chand dekhne saam ko jata tha.


Chand Shayari - चांद शायरी

सितारे भी जाग रहे हो रात भी सोई ना हो,

ऐ चाँद मुझे वहाँ ले चल जहाँ उसके सिवा कोई ना हो।

Sitarein bhi jaag rahe ho raat bhi soi na ho,

Ae chand mujhe waha le chal jaha uske siwa koi na ho.


अब्र में आफताब को देखा कई दिनों बाद महताब को देखा,

तुम जो साथ हो तो तो चाँद के पार चलें क्या?

Ab mai alfaz ko dekha kai dino baad mehtaab ko dekha,

Tum jo sath ho to chand ke paar chale kya.


Shayari On Chand


कौन कहता है क़ि चाँद तारे तोड़ लाना ज़रूरी हैं,

दिल को छू जाए प्यार से दो लफ्ज़ वही काफ़ी है।

Kaun kehta hai chand taare tod lana jaruri hai,

Dil ko chhu Jaye pyar se do lafz wahi kafi hai.


Chand Shayari - चांद शायरी

एक पुरानी तस्वीर जिसमे तुमने बिंदी लगाई है,

मै अक्सर उसे रात में चाँद समझ के देख लेता हूँ।

Ek purani tasveer jisme tumne bindi lagayi hai,

Mai aksar use raat me chand samjh ke dekh leta hu.


ना चाँद चाहिए ना फलक चाहिए, 

चाहे ख्वाबो में ही क्यु ना दिखो,

मुझे बस तुम्हारी एक झलक चाहिए।

Na chand chahiye na falak chahiye,

Chahe khwabon me hi kyun na dikho,

Mujhe bas tumhari ek jhalak chahiye.


Chand Shayari


क्या कहें तेरे रूखसार का नूर कैसा है,

तू चांद सी नही चाँद तेरे जैसा है।  

Kya kahe tere Rukhsar ka noor kaisa hai,

Tu chand si nahi chand tere jaisa hai.


Chand Shayari - चांद शायरी

तुझ को देखा, तो फ़िर उसको न देखा,

चाँद कहता रह गया मैं चाँद हूं मैं चाँद हूं।

Tujhko dekha to phir usko na dekha,

Chand kehta reh gaya mai chand hu mai chand hu.

आसमान में सितारे बहुत हैं पर चांद सिर्फ एक है,

दुनिया में खूबसूरत तो बहुत हैं,

पर इस दिल को पसंद सिर्फ तू एक है।

Asmaan me sitarein bahut hai par chand sirf ek hai,

Duniya me khubsurat to bahut hai,

Par is dil ko pasand sirf tu ek hai.


दाग धब्बे जैसा कुछ भी नहीं हैं जनाब,

हम ने तो चाँद को करीब से देखा है।

Daag dhabbe jaisa kuch bhi nahi hai janab,

Hamne to chand ko karib se dekha hai.


चांद शायरी


बात चली के चाँद से सुन्दर कौन है  ?

हम गलती से गुलाब बता बैठे,  

झुंझलाये वो इस क़दर झटके से नक़ाब उठा बैठे।

Baat chali ki chand se sundar kaun hai,

Ham galti se gulab bata baithe,

Jhunjhlaye wo is kadar jhatke se nakab utha baithe.


Chand Shayari - चांद शायरी

क़रीब आने से चलता है शख़्सियत का पता,

ज़मीं से तो चांद जरा सा दिखाई देता है।

Karib ane se pata chalta hai shakshiyat ka pata,

Jamin se to chand jara sa dikhayi deta hai .


रूप जब सरोवर में नहाता है,

तो चांद पानी में उतर आता है,

खुद तो चला जाता है शितल हो कर,

आग पानी में लगा जाता है।

Roop jab sarovar me nahata hai,

To chand pani me utar ata hai,

Khud to chala jata hai sital ho kar,

Aag pani me laga jata hai.


बस उस खिड़की में चाँद बैठा था,

बाकी बे-नूर थी गली सारी।

Bas us khidki me chand baitha tha,

Bake be-noor thi gali sari.


Read Also:

Unheard Shayari

Waqt Shayari

Love Shayari

Yaad Shayari

Zindagi Shayari