Best 50+ Barish Shayari in Hindi | बारिश शायरी हिंदी में

Barish Shayari: हमेशा की तरह आज फिर से हाजिर है एक नए पोस्ट के साथ जिसका टाइटल है बारिश शायरी। हम उम्मीद करते है की ये पोस्ट आपको जरूर पसंद आयेगी और आप इसे अपने दोस्तो के साथ जरूर शेयर करेंगे।

काश बरस जाये ईमान की बारिश,

लोगो के ज़मीर पर धूल बहोत है।


Barish Shayari in Hindi with image

बात तो सच है मगर कोई मानता ही नहीं,

कि बारिश में मेरा घर कैसे जला।


नसीब की बारिश कुछ इस तरह से होती रही मुझ पर,

ख्वाहिशें सूखती रही और पलकें भीगती रहीं।


एक हम हैं जो इश्क़ कि बारिश करते है,

एक वह हैं जो भीगने को तैयार ही नहीं।


फ़र्क़ बस इतना ही आया है,

अब वो बारिश की बातें किसी और से करता है।


Barish Shayari


काश कोई इस तरह भी वाक़िफ हो मेरी ज़िंदगी से,

मैं बारिश में भी रोऊं तो वो मेरे आंसू पढ़ ले।


Barish Shayari in Hindi with image

आज आई बारिश तो याद आया

मेरा वो छत पर रहना तेरा सड़कों पर नहाना।


भीगना मुझे बहुत पसंद हैं 

फिर चाहे वो तुम्हारी मुहोब्बत हो,

या फिर मौसम की बारिश।


सितंबर के बाद आओगे तो ये बारिशें कहां होगीं

आओ सावन हैं फिर ये मुलाकात कहां होगी।


चाय की बात हो और तेरी याद न आए,

ऐ बारिश तेरा मेरा याराना सच में बहुत पुराना है।


Sad Barish Shayari


रंगतों पे जानें का फायदा नहीं है,

साफ बादल से बारिश की उम्मीद नहीं होती।


Barish Shayari in Hindi with image

बारिशों का भी अपना ठीक ही होगा,

बादलों से रूठकर ज़मी को चले आये।


हवाओं का भी अपना तरीका है दिल्लगी का साहब,

कभी बारिशों के साथ तो कभी बादलों के साथ।


ये बारिश का मौसमबड़ी याद दिलाता है,

मेरे यारों की चाय वाली पार्टियों की और भीगनें वाली सैर की।


बदल जाता है वक़्त और मिजाज़ हर एक चीज़ का

जिन बारिशों को इश्क़ की बरसात कहते थे वही मौत बन कर उतर रही है आज।


Barish Shayari in Hindi


बारिशों का इरादा कुछ ठीक नहीं है,

इनसे नुकसान सबसे ज्यादा ग़रीब का ही है।


Barish Shayari in Hindi with image

ये खूबसूरत मौसम ये हल्की-हल्की बारिश,

तुम होती तो शायद कहीं सपनों की सैर पे चलता तुम्हारे साथ।


खयाल आया था उनका हल्की बारिश के बाद,

मैं घर लौट के सो गया बोतल में डूब के।


घर मिट्टी का बनाया जो रहनें के लिए,

बारिशों को ये मोहब्ब्त नागवार गुजरी।


ये आज की बारिश नें तो कमाल कर दिया,

मैं उससे मिल के रोया औऱ बिना उसके जानें बारिश नें अपना काम कर दिया।


Barish Par Shayari


मैं नाराज़ हूँ मौसम से पर कुछ कर नहीं सकता,

एक अरसे से वो चिड़ियाँ घोंसला बना रही थी।


Barish Shayari in Hindi with image

हल्की बारिशों से इश्क़ जैसा है मुझे पर बाढ़ से नहीं कोई लागव नहीं है 

उसे मैं बुरा तो नहीं लगता पर ये है कि  प्यार नहीं करती।


और एक झटके में बारिश नें आनें का मन बना लिया

हर बारिश इश्कवाली नहीं होती,

इस बार जिन्दगियां तबाह हुई हैं बारिशों की वजह से।


कुछ चाहत रही होगी इन बारिश की बूंदों की,

वरना कौन गिरता है जमीन पर आसमान तक पहुंचने के बाद।


ढूँढ़ लेना खुद को मेरे अल्फाज़ों की बारिश में,

सरेआम जो तेरा नाम लिखा तो आम हो जाओगे।


Barish ki Shayari


कभी बेपनाह बरस पड़ी कभी गुम सी है,

ये बारिश भी कुछ कुछ तुम सी है।


Barish Shayari in Hindi with image

एक ख्वाहिश है मेरी लंबी सड़क, बारिश और

बहुत सारी बातें और बस हम और तुम।


मैं तेरे नसीब की बारिश नहीं जो तुझपर बरस जाऊं,

तुझे तकदीर बदलनी होगी मुझे पाने के लिए।


सर्दियों में बारिश हो रही है,

लगता है मौसम के साथ धोखा हुआ है।


दुनिया के बचे रहने के लिए ज़रूरी है कि बारिश जैसी लड़कियों को,

प्रेम हो जाए रेगिस्तान सरीखे लड़कों से।


Barish Shayari Hindi


शायद कोई ख्वाहिश रोती रहती है,

मेरे अंदर बारिश होती रहती है।


Barish Shayari in Hindi with image

उन्हें फिर से मोहब्बत हुई है ये कहते हैं सभी साहब,

दूसरी बारिश पर भी भला मिट्टी महकी है कभी।


वो गुस्से में सीधी बात नहीं करती,

तूफानों में बारिश तिरछी होती है।


बहुत देर कर दी तुमने लौटने में,

बर्बाद फसलों को बारिश की दुआएं नहीं लगती।


ये बारिश ये हसीन मौसम और ये हवाएं साहब,

लगता है आज मोहब्बत ने किसी का साथ दिया है।


बारिश शायरी हिंदी में


फितरत तो कुछ यूं भी है इंसान की साहब,

बारिश खत्म हो जाये तो छतरी बोझ लगती है


Barish Shayari in Hindi with image

भीगे बिना बारिश लिखोगे,

तो कागज़ सूखा रह जाएगा


बारिश इसलिए भी होती है ताकि जिन पौधों को कोई पानी नहीं देता,

वे जीवित रह सकें ईश्वर की अवधारणा भी इससे अलग नहीं है।


कही गिर ही ना जाऊ तेरे ख़यालो में चलते चलते

अपनी यादों को रोको मेरे शहर में बारिश बहुत हो रही है।


जो मुँह तक उड़ रही थी अब लिपटी है पाँव से,

बारिश क्या हुई मिट्टी की फितरत बदल गई।


बारिश शायरी


कहीं फिसल न जाऊं तेरे ख्यालों में चलते चलते,

अपनी यादों को रोको मेरे शहर में बारिश हो रही है।


Barish Shayari in Hindi with image

ये तो उम्र का तकाजा है जो अब सर्दी जुकाम रहता है,

वर्ना बारिश के मौसम में हमें इश्क हुआ करता था।


आज आयी जो बारिश तो याद आया वो जमाना,

तेरा छज्जे पे रहना और मेरा सड़कों पर नहाना।


ले आओ ना  टूटी छतरी

मोहब्बत की बारिश में आधा आधा भीगेंगे


बारिश में जब कोई नहीं होता मेरे साथ,

तब मैं बूँदों से बात कर लिया करता हूं।


ना बरसाओ यू मोहब्बत बारिशो की तरह,

हम जो फिसल गए तो गजब होगा।


Barish Shayari in Hindi with image

खुद को इतना भी मत बचाया कर बारिशें हो अगर तो भीग जाया कर, 

चाँद लाकर कोई नहीं देगा तुझको तू खुद अपने चेहरे से ही जगमगाया कर।


बहा दो अपनी नफरतों को आज इस बारिश के पानी में,

न जाने फिर कब खुलेंगे बांध के इतने दरवाजे जिंदगानी मैं।


हर रोज़ मेरे दिल में दर्द की बारिश होती है, 

हर रोज न जाने कितनी ख्वाहिशें भीग जाती हैं।


बारिश और बॉयफ्रेंड / गर्ल फ्रेंड

शुरुआत में ही अच्छे लगते है,

बाद में किच किच किच किच


Read Also:

Love You Shayari

Ishq Shayari

Husband Shayari

Lovers Shayari

Emotional Shayari