Dhokebaaz Shayari In Hindi - धोखेबाज शायरी हिंदी में

Dhokebaaz Shayari: नमस्कार दोस्तो, हमेशा की तरह आज फिर से हाजिर है एक नए पोस्ट के साथ जिसका टाइटल है धोखेबाज शायरी। हमेशा प्यार सफल नहीं होता है कभी कभी लोग धोखा खा जाते है। ये जरूरी नहीं की हम जिससे प्यार करे वो ईमानदार हो हो सकता है कि वो दिल से बेईमान हो। जिससे प्यार होता है हमे उसके लिए वफादार होना चाहिए।

हम उम्मीद करते है कि इस पोस्ट की Dhokebaaz Shayari Image आपको अच्छी लगेगी और इसे आप अपने दोस्तो के साथ जरूर शेयर करेंगे।


दर्द ऐसा है कि जी चाहे है ज़िंदा रहिए,

ज़िंदगी ऐसी कि मर जाने को जी चाहे है।


Dhokebaaz Shayari In Hindi

सितारों से कह दो रात भर जागते रहे,

वो एक चिराग आज बुझ गया है।


तूफान कर रहा था मेरे अज़्म का तवा़फ,

दुनिया समझ रही थी कश्ती भंवर में है।


ले दे के अपने पास फ़क़त इक नज़र तो है,

क्यूँ देखें ज़िंदगी को किसी की नज़र से हम।


सुकून के शहर ले चल ऐ जिन्दगी

थक गए हैं बैचेनीयों के आलम सेअब हम।


Dhokebaaz Shayari Hindi


ख़्वाब ही ख़्वाब कब तक देखूँ,

अब तमन्ना है तुम्हें देखूँ।


Dhokebaaz Shayari In Hindi

वो इश्क़ ही क्या जो किसी के चेहरे से हो,

मज़ा तो तब है जब इश्क़ किसी के बातो से हो।


मेरी ना सही तेरी होनी चाहिए,

किसी एक की तो तमन्ना पूरी होनी चाहिए।


वो जा रहा है कहीं बन संवर के महफ़िल में,

सो जान बूझ के मेरी गली से गुजरेगा।


तुम जख़्म की बात करते हो,

मैं जख़्म को चुप रखता हूँ।


Shayari On Dhokebaaz


कुछ ऐसे हमारे इश्क़ का इजहार हो गया,

उसने कहा चाय और मुझे प्यार हो गया।


Dhokebaaz Shayari In Hindi

कहीं भी आग लगाने का वाक़िआ न हुआ,

तो फिर हुज़ूर मकाँ मेरा जल गया कैसे।


इज़हार-ए-तमन्ना ही तौहीन-ए-तमन्ना है,

तुम खुद ही समझ जाओ मैं नाम नहीं लूँगी।


हम भी मौजूद थे तकदीर के दरवाजे पे,

लोग दौलत पर गिरे और हमने तुझे माँग लिया।


टूटै ही हैं अभी तो ऐतबार,

अभी तो अहसासों का तबाह होना बाकी हैं।


Dhokebaaz Shayari In Hindi


जी चाहे कि दुनिया की हर एक फ़िक्र भुला कर,

दिल की बातें सुनाऊं तुझे मैं पास बिठाकर।


Dhokebaaz Shayari In Hindi

दिए हैं ज़ख़्म तो मरहम का तकल्लुफ़ ना करो,

कुछ तो रहने दो मेरी ज़ात पे एहसान अपना।


सुना है उस को मोहब्बत दुआएँ देती है,

जो दिल पे चोट तो खाए मगर गिला न करे।


जब हम चाह कर भी मर नही पाते,

तब कुछ घंटो के लिये सो जाते हैं।


मलाल है मगर इतना मलाल थोड़ी है,

ये आँख रोने की शिद्दत से लाल थोड़ी है।


Dhokebaaz Shayari image


आप से गुफ्तगू करने का बहुत मन करता है,

पर कभी वक़्त नही होता कभी तुम नही होती।


Dhokebaaz Shayari In Hindi

मौसम को भी एक सुरूर सा छा जाता है,

जाने वो किस अदयकी से मुस्कुराता है।


जब लिख ही दिया है तूने मेरा नाम रेत पर,

मिटने का फिर मेरे तू तमाशा भी देख ले।


इतना ही नाजुक तेरा मेरा रिश्ता था,

हरम के रास्तों को हराम जैसा लिखा था।


ख़्वाब उम्मीद तमन्नाएँ तअल्लुक़ रिश्ते,

जान ले लेते हैं आख़िर ये सहारे सारे।


Dhokebaaz Shayari


मुमकिन अगर हो सके तो वापस कर दो,

बिना दिल के अब हमारा दिल नहीं लगता।


Dhokebaaz Shayari In Hindi

मुझसे भी कभी तुम मुलाकात कर लो,

बहुत बोलते हो कभी बात भी कर लो।


प्यार के लिए चार पल कम नही थे,

कभी तुम नही थे कभी हम नही थे।


तेरा ख़याल तेरी तलब और तेरी आरज़ू,

इक भीड़ सी लगी है मेरे दिल के शहर में।


अब तो मेरी आँख में एक अश्क भी नहीं,

पहले की बात और थी ग़म था नया नया।


धोखेबाज शायरी


वो ना आएगा हमें मालूम था इस शाम भी,

इंतज़ार उसका मगर कुछ सोच कर करते रहे।


Dhokebaaz Shayari In Hindi

इतना न याद आओ कि खुद को तुम समझ बैठूं,

मुझमे अहसास रहने दो मेरी अपनी भी हस्ती है।


इस कदर याद आती है उनकी,

हम खुद की हस्ती ही भूल बैठे हैं।


यूँ नजर का झुकना तो फिर ठीक हैं,

नजर का उठाना गजब ढ़ा गया।


बातें ही तो बेवकूफ़ी थी तुमसे,

देखते ही तुम्हें तो उठा लेना था।


धोखेबाज शायरी हिंदी में


तुम्हारे बाद चश्मा साफ़ करने का नही सोंचा,

तुम्हारे बाद अच्छा देखने की चाह नहीं थी।


Dhokebaaz Shayari In Hindi

हिज्र में फ़क़त रात-दिन ही नहीं, 

हमने शाम भी रो-रो कर गुजारी हैं।


लेहाफ की सिलवटे बता रही है कि,

रात करवट बदल बदल के गुजरी है।


जब नहीं कुछ ए'तिबार-ए-ज़िंदगी, 

इस जहाँ का शाद क्या नाशाद क्या।


हैं होंठ उसके किताबों में लिखी तहरीरों जैसे,

ऊँगली रखो तो आगे पढ़ने को जी करता है।


Dhokebaaz Shayari Hindi


हो जाये किसी शख़्स को मुझसे मुहब्बत ऐसी,

ग़र मैं रहूँ भूख़ी तो उससे भी ना कुछ खा़या जाये।


Dhokebaaz Shayari In Hindi

तुम्हारा दिल मिरे दिल के बराबर हो नहीं सकता,

वो शीशा हो नहीं सकता ये पत्थर हो नहीं सकता।


अब वो नदामत है कि सर को उठाऊँ कैसे,

मेरे मालिक मुझे सजदे में पड़ा रहने दे।


कई राज़ दफन हैं इस दिल में,

जो ज़ाहिर हो गये तो दफन होना तय हैं।


कुछ तल्ख़ था,

लगा की जैसे इश्क़ है।


Dhokebaaz Shayari In Hindi


वो जो कहते थे शहर अनजान होता है,

लो आज साबित करने पर उतर आए।


Dhokebaaz Shayari In Hindi

जिस तरह मैंने चाहा हैँ तुम्हें,

अगर कोई औऱ चाहे तो बेशक़ भूल जाना।


सिमटने लगा हैँ रात का अँधेरा भी,

मग़र अब तलक़ नींदें गुमसुदा हैँ।


बुझने लगी हैँ लौ ज़िन्दगी की,

सिर्फ़ साँसों का धुँआ बाकी हैँ सीने में।


Read Also:

Khubsurti Shayari

Sharab Shayari

Sharabi Shayari

Dard Shayari

Shayari Status

Sister Shayari