Best Gulzar shayari images | Shayari of gulzar | Shayari

Gulzar Shayari - गुलजार  शायरी 

This post contains Gulzar ki shayari (गुलजार साहब की मशहूर शायरी) in hindi English font.This post also contains best gulzar shayari (गुलज़ार शायरी हिंदी) images.You will love to share this gulzar famous shayari with your friends on social media.
                                     
Gulzar shayari images


Romantic gulzar shayari

Bahut takleef hoti hai us waqt jb aapko samajhne,
wale hi aapko galat samajhne lagte hai
बहुत तकलीफ़ होती है उस वक्त जब आपको समझने, 
वाले ही आपको गलत समझने लगते है 

Gulzar shayari images

Mai december aur tu january,
Rishta kaphi nazdik ka,
 aur duri  sal bhar ki
मैं  दिसम्बर ओर तू जनवरी ,
रिश्ता काफी नजदीक का ,
दूरी साल भर की 
                                                                   

Mujhe furshat kha ki mausam suhana dekhu, 
Teri yaadon se niklu tab to jamana dekhu
मुझे फुरसत कहा की मौसम सुहाना देखू,
तेरी यादों से निकलू तब तो जमाना देखू         

                                   
                                                   Gulzar shayari on love                                                       

Yaha khud se mile jamana ho gaya,
Aur log kehte hai hme bhul gaye  
यहा खुद से मिले जमाना हो गया, 
और लोग कहते है हमे भूल गए 

Gulzar shayari images

Us hasti tasweer ko kya malum ,

Use dekh kar kitna roya jata hai
उस हँसती तस्वीर को क्या मालूम,
उसे देखकर कितना रोया जाता है। 


Tum ishq karo aur dard na ho, 
Matlab december ka mahina ho aur sard na ho
तुम इश्क करो और दर्द न हों,
मतलब दिसम्बर का महिना हो और सर्द ना हो                  

 Gulzar shayari in hindi

Dekhna akele me hogi usko hmari kadar,
Abhi to bahut log hai unke pass dil lgane k liye
देखना अकेले मे होगी उसको हमारी कदर ,
अभी  तो बहुत लोग है उनके पास दिल लगाने के लिए 

Gulzar shayari images

Jis din mujhe kho doge ,
Us din muskurate hue bhi ro doge
जिस दिन मझे खो दोगे 
उस दिन मुसकुराते हुए भी रो दोगे  
                                                                       


Bahut din ho gaye hum tino nahi mile, 
Mai tum aur waqt
बहुत दिन हो गए हम तीनों नहीं मिले 
मै तुम ओर वक़्त 

Gulzar best shayari

Kuch to baat hogi mohabbat me,
Warna koi ek lash ke liye tajmahal nahi banwata
कुछ तो बात होगी मोहब्बत मे ,
वरना कोई एक लाश  के लिए ताजमहल नहीं बनवाता 

Gulzar shayari images

Ek khayal hi to hu yaad rhe to rakh lena 
Warna sao bahane milenge mujhe bhul jane ke
एक ख्याल तो हु याद रहे तो रख लेना ,
वरना सौ बहाने मिलेंगे मुझे भूल जाने की। 
                                                             

Ajib kissa hai na zindagi ka bhi,

Duriyan hume batati hai ki najdikiya kitni hai
अजीब किस्सा है न जिंदगी का  भी,
दूरिया हमे बताती है  की नजदीकिया कितनी है।  

Gulzar in hindi

Shahar ke shahar band hai,har gali me nakabandi hai,
Tum pta nhi kin rasto se chale aate ho khayalon me
शहर के शहर बंद है,हर गली मे नाकाबंदी है , 
तुम पता नहीं किन रास्तों से चले आते हो खयालों मे 

Gulzar shayari images

Tum hi aakar tham lo mujhe,
Auro ne to chod diya hai,
tumhara samajh kar
तुम ही आकर थाम लो मझे,  
औरों ने तो छोड़ दिया है,
तुम्हारा  समझ  कर।  
                                                                   

Naadan hai wo use samjhaye koi ,
Baat na karne se mohabbat kam nhi hoti
नादान है वो उसे समझाए कोई ,
बात न करने से मोहब्बत कम  नहीं होती। 

 Gulzar shayari on love

Gazab ka virus hai sahab,
pehle hi logo me km duriyan thi, 
jo isne aakar bdha di
गजब का वायरस हैं साहब, 
पहले ही लोगों मे कम दूरियाँ थी, 
जो इसने आकर बढ़ा दी

Gulzar shayari images

Ek tarfa hi shi,pyar to pyar hi hai,

Use ho ya na ho hume to beshumar hai
एक तरफा ही सही प्यार तो प्यार ही है, 
उसे हो या ना हो हमे तो बेशुमार है। 
                                                                

Jra jra si baat par mujhse takrar karne lage ho,

Lagta hai tum mujhse beintehaan pyar karne lage ho
जरा जरा सी बात पर पर मुझसे तकरार करने लगे हो, 
लगता है तुम मुझसे बेंतहाँ प्यार करने लगे हो।  

 Romantic gulzar shayari

 Kisi ne mujhse pucha chai ya mohabbat?
humne muskura k kha mohabbat k hatho ki chai
किसी  ने मुझसे पूछा चाय या मोहब्बत ?
हमने मुस्कुरा क कहा मोहब्बत के हाथों की चाय 

Gulzar shayari images

Tujhe us najar se dekha hai 
Jis nazar se tujhe najar na lage
तुझे उस नजर से देखा है 
जिस नजर से तुझे नजर ना लगे 
                                                                       

Sirf tumne hi kabhi mujhko apna na samjha 

Jamana to mujhe aaj bhi tera deewana kehta hai
सिर्फ तुमने ही कभी मुझको अपना ना समझा 
जमाना तो मुझे आज भी तेरा दीवाना कहता है 

Gulzar shayari in hindi

Kudrat ka kahar bhi jaruri hai sahab, 
Har koikhud ko khuda samajhne lga tha 
कुदरत का कहर भी जरूरी है साहब ,
हर कोई खुद को खुद समझने लगा था 

Gulzar shayari images

Jinhe nind nhi aati unhe hi malum hai
Shubah hone me kitne jamane lagte hai
जिन्हे नींद नहीं आती उन्हे ही मालूम है 
सुबह होने मे कितने जमाने लगते है 
                                                                             

Tumse bas ab itna sa talluk hai
Agar tum pareshan ho to hume nind nhi aati
तुमसे बस अब इतना सा ताल्लुक  है
अगर तुम परेशान हो तो हमे नींद नहीं आती  

Gulzar best shayari


Tumko gum ke jajbato se ubharega kaun,
Agar hum bhi mukar gaye to tmhe sambhalega kaun
तुमको गम के जज़्बातों से उभरेगा कौन ,
अगर हम भी मुकर गए तो तुम्हें संभालेगा कौन

Gulzar shayari images

Mujhe chodkar wo khush hai to shikayat kaisi
Ab mai use khush bhi na dekh sku, to mohabbat kaisi
मुझे छोड़कर वो खुश है तो शिकायत कैसी 
अब मैं उसे खुश भी न देख सकूँ, तो मोहब्बत कैसी 


Unko bhi humse mohabbat ho jaruri to nhi
Ishq hi ishq ki kimat ho jaruri to nhi
उनको भी हमसे  मोहब्बत हो जरूरी तों नहीं
इश्क ही इश्क की कीमत हो जरूरी तो नहीं  

 Gulzar shayari on love

Kabhi to chouk ke dekhe koi hamari taraf,
Kisi ki ankh me humko v intejar dikhe.
कभी तो चौक के देखे कोई हमारी तरफ,
किसी के आँख मे हमको भी इंतेजार दिखे 

Gulzar shayari images

Mana ishq jabardasti nhi hota, 
Magar ye kambakht hota bda jabardast hai
मन इश्क जबरदस्ती नहीं होता, 
मगर ये कमबख्त होता बड़ा जबरदस्त है 
                 

Daal kar aadat bepanah mohabbat ki ,

Ab wo kehte hai ki,samjha kro waqt nhi hai
डाल कर आदत बेपनाह मोहब्बत की ,
अब वो कहते है की समझा करो  वक्त  नहीं है 

Gulzar best shayari

Khata  unki bhi nahi yaro wo v kya krte,
Bahut chahne wale the kis kis se wafa krte?
खता  उनकी भी नहीं यारों वो भी क्या करते,
बहुत चाहने वाले थे किस किस से वफ़ा करते

Gulzar shayari images

Pyar usi se kro jiska dil pehle se  tuta ho,
Kyoki tute dil wale kisi ka dil nhi toda karte
प्यार उसी से करो जिसका दिल पहले से टूटा हो ,
क्योंकि टूटे दिल वाले किसिस का दिल नहीं तोड़ करते 
                                                                        

Wo daur bhi aaya safar me ,
Jab mujhe apni pasand se bhi nafrat hui
वो दौर भी आया सफर मे ,
जब मुझे अपनी पसंद से भी नफरत हुई 
                  
Gulzar shayari

Beshumar mohabbat hogi us barish ki bund ko is jameen se,
Yu hi ni koi mohabbat me itna gir jata hai?
बेशुमार मोहब्बत होगी उस बारिश की बूँद को इस जमीन से,
यू ही कोई मोहब्बत मे इतना गिर जाता है  

Gulzar shayari images


Maine khoya wo jo mera tha hi nhi,

Usne khoya wo jo sirf aur sirf usi ka tha
मैंने खोया वो जो मेरा था ही नहीं ,
उसने खोया वो जो सिर्फ और सिर्फ उसी का था 
                                                                       

Kabhi dekh lo tum bhi mujhe pyar se,

Har baar mai hi pukaru,ye tay to nhi hua tha
कभी देख लो तुम भी मुझे प्यार से ,
हर बार मई ही प्यार करू, ये तय तो नहीं  हुआ था 

                                                                   Gulzar shayari on love                                                               

Bahut mushkil se karta hun, teri yadon ka karobar,
Munafa kam h , par gujara ho hi jata h
बहुत मुश्किल से करता हु ,तेरी यादों का कारोबार ,

मुनाफा कम है , पर गुजारा हो ही जाता है 

Gulzar shayari images

Jha ho jaise bhi ho khush rehna,
Tumhara milna nhi tumhara hona jaruri hai
जहा  हो जैसे भी हो खुश  रहना,
तुम्हारा मिलन नहीं तुम्हारा होना जरूरी है  
                                                                 

Ye shehro ka sannata bta raha hai,
Insano ne kudrat ko naraz bahut kiya hai
ये शहरों का सन्नाटा बात रहा है ,
इंसान ने कुदरत को नाराज बहुत किया है

 Romantic gulzar shayari

Kaun kehta hai ki hm jhut nahi bolte hai,
Tum ek br khairiyat puchh kar ke to dekho
कौन  कहता है की हम झुट नहीं बोलते है ,
तुम एक बार खैरियत पुछ कर के तो देखो 

Gulzar shayari images

Badal  diye hai humne naraz hone ke tarike,
Ab ruthne ke bajay, bs halke se muskura dete hain
बदल दिए है हमने  नाराज होने के तरीके , 
अब रूठने के बजाए बस हल्का स मुस्कुरा देते हैं 


Itne bewfa nhi hai jo tumhe bhul jaye,
Aksar chup rehne wale pyar bahut karte hai
इतना बेवफा नहीं है जो तुम्हें भूल जाए ,
अक्सर चुप रहने वाले प्यार बहुत करते है

Gulzar shayari

Kyu na gurur karu mai apne aap par,
Mujhe usne chaha jiske chahne wale hazaron the
क्यू न गुरूर करू मई अपने आप पर,
मुझे उसने चाहा जिसके चाहने वाले हजारों थे 


Dil ki umeedon ka hauslo to dekho,
Intezar uska hai jisko ehsas bhi nhi
दिल की उम्मीद का हौसला तो देखो, 
इंतज़ार उसका है जिसे एहसास भी नहीं 

Read Also: